Welcome to hindi soch here you see hindi spiritual stories.love stories movies stories horror stories and much more in hindi

October 31, 2019

डरावना जंगल horror story in hindi soch indian horror story part 2

डरावना जंगल horror story in hindi soch indian horror story part 2

डरावना जंगल short horror story indian horror story part 2

short horror story indian horror story

short horror story indian horror story

हेलो दोस्तो आपका स्वागत है horror story in hindi soch पर ओर मै हु आपका दोस्त मुंगेरी ढालिया।
पिछले पोस्ट में मैने एक कहानी की शुरुआत की थी जिसका टाइटल था डरावना जंगल।आज मैं उसी कहानी के आगे का भाग प्रस्तुत कर रहा हु। तो हमारी कहानी में रेखा नाम की एक लड़की है जो खेलते खेलते जंगल के बीच चली जाती है वहाँ जाने के बाद वो वापिस नही आती जब उसके पिता सुरेंद्र उसको ढूंढने जाते है ।तब उनको जंगल के बीच मे एक गुड़िया मिलती है जिसके गले मे रेखा का लॉकेट था अब आगे.........
डरावना जंगल short horror story indian horror story part 2
सुरेंद्र उस गुड़िया को उठाता है। उस गुड़िया के गले मे उसकी बेटी का लॉकेट था।उसको लगा कुछ तो गड़बड़ है।कि तभी उस गुड़िया से आवाज आई पापा।ये सुनकर सुरेंद्र को शौक लगा कि गुड़िया में से कैसे आवाज आ सकती है।वो जोर जोर से रेखा को आवाज देने लगा।फिर उस गुड़िया के अंदर से आवाज आई ।पापा मैं तो आपके हाथ मे हु आप मुझे जोर से क्यों पुकार रहे हो।
ये सुनकर सुरेंद्र को ये विश्वास हो गया कि ये गुड़िया ही रेखा है पर ये हुआ कैसे।
की तभी वहां पर एक आदमी आया वो बहुत ही अजीब था।
उसने काले रंग के कपड़े पहने थे उसकी आंखे एकदम लाल थी।
उसके बड़े बड़े नाखून और दांत थे। वो कुबड़े की तरह चल रहा था।उसके कमर में कूबड़ थी।
वो वहां पर जोर जोर से हसने लगा।ये देख कर सुरेंद्र को गुस्सा आ गया।और वो उस कुबड़े को मारने के लिए उस की तरफ बढ़ा।तभी वो कुबड़ा बोला कि मुझे मारने से तुम्हारी बेटी ठीक नहीं होगी।
फिर सुरेंद्र थोड़ा रुका और उस कुबड़े से पूछा कि ये सब कैसे हुआ और मेरी बेटी ठीक कैसे होगी।तब वो कुबड़ा बोला कि तुम्हारी बेटी ने गलती से सुरसा तालाब का पानी पी लिया है।इस तालाब का पानी जो भी पिता है।उसको कोई न कोई श्राप लगता है।मैने भी इसी तालाब का पानी पिया था और मेरी ये हालत हो गयी।
सुरेंद्र बोला कि अब मेरी बेटी ठीक कैसे होगी। तबवो कुबड़ा बोला इस जंगल मे एक गुफा है।
उस गुफा में एक मांत्रिक है। उसके पास एक पारस नाम की जड़ी बूटी है अगर उसका रस तुमने इसके ऊपर छिड़का तो तुम्हारी बेटी ठीक हो सकती है।
लेकिन वो तुमको वो जड़ी बूटी नही देगा।और अगर तुम उसके सामने गए तो वो तुमको चूहा या बिल्ली कुछ भी बना देगा।बस उसके सामने मत आना।
सुरेंद्र अपनी बेटी की गुड़िया को लेकर उस गुफा की तरफ चला गया।जब वो उस गुफा के पास पहुंचा।तो उसने देखा कि एक हिरन का पैर झाड़ियों में फसा हुआ है और वो मांत्रिक उस हिरन को झाड़ी से निकलने में उसकी मदद कर रहा।था।
वो उसको उस झाड़ी से निकाल देता है।
ये देख कर सुरेंद्र सोचता है कि ये बुरा आदमी नही हो सकता एक बार उससे बात करनी चाहिए।
फिर सुरेंद्र उसको बताता है कि मेरी बेटी गुड़िया बन गयी।और उस मांत्रिक को सारी बात बता दी। तब वो मांत्रिक बोला कि उसने ही तुम्हारी बेटी को गुड़िया बनाया है।
वो भी एक मांत्रिक है। लेकिन वो अपनी विद्या का इस्तेमाल लोगो को दुख पहुंचाने के लिए करता है और मैं मदद के लिए।
उसकी इसी आदत की वजह से मैने उसको कुबड़े होने का श्राप दिया है और उसकी शक्तियां भी कम कर दी
ये जड़ी बूटी ही उसका इलाज है अगर्वो ठीक हो गया तो फिर से लोगों को परेशान करेगा।फिर उसने सुरेंद्र की बेटी को ठीक कर दिया और कुबड़े की सारी शक्ति छीन ली।

No comments:

Post a Comment