Welcome to hindi soch here you see hindi spiritual stories.love stories movies stories horror stories and much more in hindi

October 22, 2019

पिता का बेटे के लिए प्यार Motivational stories in hindi soch

     Motivational stories in hindi soch

पिता का बेटे के लिए प्यार Motivational stories in hindi soch

 Motivational stories in hindi soch
 Motivational stories in hindi soch

दोस्तो आपका स्वागत है motivational stories in hindi soch पर और मैं हु आपका दोस्त मुंगेरी ढालिया।
दोस्तो कल मैने एक कहानी की शुरुआत की थी जिसमे रामराज नाम का एक लड़का था।जिसने कविता नाम की लड़की से भाग कर शादी कर ली थी अब आगे की कहानी ।
चलिए शुरू करते है।
पिता का बेटे के लिए प्यार
      Motivational stories in hindi soch
रामराज और कविता ने दूसरे शहर में जाकर शादी कर ली ।
अब रामराज के लिए वही समस्या थी कि उसके पास कोई काम नही था। लेकिन कविता के लिए उसने मजदूरी करने शुरू कर दिया।
लेकिन उसने कविता को ये नही बताया कि वो मजदूरी करता है नही तो उसको बहुत बुरा लगता ।रामराज ने कविता को बताया कि वो नोकरी लग गया है और सॉफ्टवेयर इंजीनियर का काम करने लग गया है।
कुछ दिनों तक ऐसे ही चलता रहा।एक दिन कविता बाहर गयी थी कि तभी उसने रामराज को मजदूरी करते हुए देख लिया ।उसकी आँखों से आंसू बहने लगे उसने सोचा कि ये सब मेरी वजह से ही हो रहा है।
फिर वो घर चली गयी जब रामराज घर आया तो कविता ने उसको बोला लगता है आज ऑफिस में काम ज्यादा था।आज ज्यादा थके लग रहे हो।
रामराज ने हड़बड़ाते हुए हां कह ये सुनते ही कविता अपने आंसू रोक नही पाई और रामराज को गले से लगा लिया।
रामराज कुछ समझ नहीं पाया।
कविता ने बताया कि उसने रामराज को मजदूरी करते हुए देख लिया है।
रामराज ने कहा कि कोई नोकरी मिल नही रही थी।इसलिए मैं मजदूरी कर रहा हु।समय बीतता रहा कविता ने एक बच्चे को जन्म दिया।
वो दिखने में कृष्ण की तरह सुंदर था।इसलिए रामराज ने उसका नाम श्यामसुंदर रख दिया ।लेकिन वो उसको सुंदर ही बोलता था।
अब सुंदर 5 साल का हो गया।रामराज अभी भी मजदूरी ही करता था।
वो जैसे तैसे करके अपना घर चलाता था। एक दिन कविता कहीं जा रही थी तो उसका एक्सीडेंट हो गया।और उसकी मौत हो गयी।
Motivational stories in hindi soch
रामराज बहुत दुखी रहने लगा। लेकिन उसके मन मे एक बात ये भी थी कि जो जिंदगी मेरी है मेरे बच्चे की वैसे नही होने दूंगा।अपने बच्चे को अच्छा भविष्य दूंगा।
ये सोचकर वो अब डबल शिफ्ट में काम करने लगा।लेकिन फिर भी उसको इतना पैसा नही मिल पाता कि वो सुंदर को अच्छे स्कूल में दाल सके।इसलिये उसने बिजनेस करने का सोचा।लेकिन बिजनेस के लिए पैसा कहा से आएगा।
उसने मुद्रा लोन के बारे में सुन रखा था।उसने लोन के लिए अप्लाई कर दिया।लोन मिलने से पहले क्या बिजनेस करना है।उसकी प्लानिंग करने लगा।
उसको पचास हजार का लोन मिला।उसको शेयर मार्केट की बहुत जानकारी थी।
इसलिए वो शेयर मार्केट में उतर गया और अपने जानकारी के हिसाब से तीन कम्पनियो में पैसे लगा दिए।
10 दिनों बाद उसके पैसे दो गुना हो चुके थे।उसको पता था कि अब अपने पैसे निकालने चाहिए और उसने शेयर बेच कर पैसे निकलवा लिए।
अब रामराज के पास एक लाख दस हजार रुपये थे।
उसने एक लाख रुपये को दूसरी पांच कंपनियों में इन्वेस्ट कर दिया और दस दस हजार घर पे खर्च के लिए रख लिए।
अब बीस दिन बाद उसके पैसे एकलाख सत्तर हजार हो गए।
वो ऐसे ही पैसा शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करता रहा।कुछ ही साल में रामराज करोड़ पति बन गया।
उसने जो अपने बच्चे का भविष्य देखा था वो पूरा होता नजर आ रहा था।
अब सुंदर दस साल का हो गया।और रामराज ने अपनी एक कम्पनी खोल दी ।रामराज ने अपनी मेहनत और अपने दिमाग के इस्तेमाल से अपने को कामयाब किया।
उसकी जो शेयर मार्केट की स्किल थी उसने उसका सही इस्तेमाल करके सफल हुआ और अपने बेटे को सही भविष्य दे पाया इंसान अगर करना चाहे तो वो कुछ भी कर सकता है ।बस उसे सही रास्ते की जरूरत होती है।
हर इंसान के पास एक ऐसा वक्त आता है जब उसको कुछ कर दिखाने का मौका मिलता है।अगर वो उस मोके का सही इस्तेमाल अपने दिमाग से करे तो उसकी सफलता तय है।हर किसी के पास कोई न कोई काबलियत होती है बस उस को सही से इस्तेमाल करने की जरूरत होती है।
 अगर आप की जिंदगी में वो मौका आये तो उसका अपनी स्किल के हिसाब से सही से इस्तेमाल करना।बस सफलता आपके कदम चूमेगी।आप कई बार हारोगे भी।पर बार बार हर से ही सफलता के नए रास्ते खुलते है।सब कुछ मुमकिन है।

No comments:

Post a Comment